Hot News

सत्ता गई तो फुर्सत ही फुर्सत, लोहिया को याद करने पहुंचे पूर्व मंत्री

गाजीपुर। एक वक्त था कि प्रदेश में पार्टी की सरकार थी और गाजीपुर के सपा नेता उसमें भागीदार थे। तब पार्टी के कार्यक्रमों में हिस्सेदारी का उन्हें मौका प्रायः नहीं मिलता था लेकिन अब जबकि सत्ता नहीं है तो बेचारे उन नेताओं को फुर्सत ही फुर्सत है। पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह शायद सालों बाद पहली बार गुरुवार को पार्टी कार्यालय समता भवन में आयोजित डॉ.राम मनोहर लोहिया की पुण्यतिथि मनाने पहुंचे थे। उस मौके पर उन्होंने कहा कि लोहिया व्यक्ति नहीं विचार थे। वह समाजवादियों की पहचान थे। आजादी के बाद के जनसंघर्षों को आगे बढ़ाते रहे। सामाजिक, आर्थिक विषमताओं और धार्मिक विकृतियों के खिलाफ सप्त क्रांति के सूत्रधार थे। वह अपने सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं किए। यहां तक कि सन् 1954 में अपनी ही पार्टी की सरकार गिरा दिए थे। इसी क्रम में श्री सिंह ने भाजपा को निशाने पर लिया। कहे कि भाजपा की सरकार और उसके नेता भ्रष्टाचार में आकंठ डूबे हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह एक ही दिन में 51 पार्टी कार्यालयों का उद्घाटन किए। उसका खर्च कहां से आया। इसका जवाब देश मांग रहा है। अमित शाह के बेटे जय शाह घोटाले में लिप्त हैं। सच्चाई यही है कि भाजपा के राज में आमजन का नहीं अंबानी, आडानी की तरक्की हो रही है। आलू किसान बर्बाद हो गए हैं लेकिन प्रदेश की भाजपा सरकार को इसकी फिक्र नहीं है। कार्यक्रम में मौजूद विधायक डॉ.वीरेंद्र यादव ने कहा कि डॉ.लोहिया सड़क से संसद तक गरीबों, दलितों, पिछड़ों के हित की बात उठाते रहे। आज अगर उनकी नीतियों, अवधारणा पर देश चलता तो तय था कि आर्थिक मंदी के दौर से गुजरना नहीं पड़ता। उनका कहना था कि भाजपा देश को रसातल में ले जा रही है। अगर जनता अब भी उससे सजग नहीं हुई तो फिर देश टुकड़ों में बंट जाएगा। कार्यक्रम में पूर्व सांसद राधेमोहन सिंह, एमएलसी विजय यादव, दयानंद यादव, पूर्व एमएलसी बच्चा यादव, सुदर्शन यादव, रामधारी यादव, रामवृक्ष यादव, पूर्व प्रमुख विजय यादव, अरुण कुमार श्रीवास्तव, शिवशंकर यादव, सुधीर यादव, तहसीन अहमद, राकेश यादव, कन्हैया विश्वकर्मा, अखिलेश सिंह, मुन्नन यादव, नन्हें खां, राहुल सिंह, रणजीत यादव, अमला यादव आदि थे। संचालन महासचिव सदानंद यादव ने किया।devraj-thakur-slaider-1024x774

 

Author: Aajkal