Hot News

चंचल का पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह पर प्रहार!

गाजीपुर। लगता है कि एमएलसी चुनाव में खुद पर पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह के तीखे राजनीतिक हमले को अभी तक विशाल सिंह चंचल भूले नहीं हैं। वह उनको माफ करने के मूड में फिलहाल नहीं हैं। शायद यही वजह है कि उन्होंने सपा सरकार में गाजीपुर में विकास के नाम पर पर्यटन, राज्य सेक्टर, नवार्ड, पूर्वांचल विकास निधि तथा नगर विकास विभाग की ओर से हुए करोड़ों रुपये के कार्यों की वह तकनीकी जांच कराना चाहते हैं। इसके लिए वह बीते 28 जुलाई को लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले। उन्होंने लिखित शिकायत पत्र देते हुए जांच कराने का आग्रह किया। इसके लिए उन्होंने सिंचाई विभाग के पूर्व एक्सईएन दिनेश सिंह को कसूरवार बनाया। बताए कि इं.सिंह अपने विभाग के अलावा पर्यटन, राज्य सेक्टर, नवार्ड, पूर्वांचल विकास निधि तथा नगर विकास विभाग की करोड़ों के कार्य कराए। उसमें उन्होंने खूब अनियमितताएं की। यहां तक कि कई ऐसे कार्य हैं जो आज भी अधूरे हैं लेकिन कागजों में उन्हें पूर्ण दिखा दिया गया। पूर्ण कार्यों में भी मानक की अनदेखी की गई। मुख्यमंत्री ने उनकी शिकायत को गंभीरता से लिया। उसके बाद मुख्यमंत्री के विशेष सचिव शुभ्रांत कुमार शुक्ल ने प्रमुख सचिव को वह शिकायती पत्र को प्रमुख सचिव सिंचाई को इस आशय से अग्रासित किया कि वह आवश्यक कार्रवाई कर उसकी रिपोर्ट पेश करें। हालांकि एमएलसी विशाल सिंह चंचल की ओर से अपने खिलाफ शुरू हुई घेरेबंदी से घबराए इं.दिनेश सिंह वह अपनी पहुंच, पैरवी से मीरजापुर की मलाईदार यूनिट का कार्यभार लेने के बाद गाजीपुर से अपना पिंड छुड़ा चुके हैं। जाने से पहले गाजीपुर का कार्यभार देवकली पंप कैनाल के दूसरे प्रखंड के एक्सईएन एसपी सिंह को सौंप दिए थे। बावजूद इं.दिनेश सिंह के खिलाफ चंचल की इतनी जोरदार पैरवी को राजनीतिक हलके में ओमप्रकाश सिंह से उनकी सियासी अदावत से जोड़ा जा रहा है। यह सबको पता है कि इं.दिनेश सिंह ओमप्रकाश सिंह के चहेते थे। सपा सरकार में पर्यटन विभाग के ओमप्रकाश सिंह मंत्री थे। लिहाजा वह अपने निर्वाचन क्षेत्र जमानियां में करोड़ों का काम लाए। पूर्वांचल विकास निधि, नवार्ड, राज्य सेक्टर और नगर विकास विभाग से भी करोड़ों का काम मंजूर कराए थे। लोगों में चर्चा है कि तकनीकी जांच में कोई गड़बड़ी साबित होती है तो अप्रत्यक्ष ही सही ओमप्रकाश सिंह पर भी अंगुली जरूर उठेगी।1-slider-1024x771

Author: Aajkal